वही कुछ खास हैं

कविता


 


 


 


-जय प्रकाश भाटिया-


 


जो दूर है वह पास है,


जो पास है वह दूर है,


अजब है यह मोहब्बत,


अजब इसका दस्तूर है,


वह सामने है, फिर भी पास नहीं,


वह पास नहीं, फिर भी दूर नहीं,


जो सामने है उसकी परवाह नहीं,


जो दूर है क्यों उसी की आस है,


यह आंख का धोखा है,


या मन का विश्वास है,


या केवल एक अनुभूति है,


मिथ्या आभास है,


जो पास है वही प्रभु की -पा है,


जो दूर है वह केवल तृष्णा है,


संतोष में ही व्यापक सुख समाया है,


जो नहीं वह केवल एक सपना है,


जिसका आधार आपकी कल्पना है,


सपने भी पूरे होंगे साकार,


अगर प्रेम में पावनता है,  


अपनों से मधुर संचार है,


ह्रदय में बसी मानवता है,


प्रभु की करनी पर विश्वास है,


न कोई झूठी आस है,


समय का चक्र अविरल चलता है,


उम्र सभी की गुजरती है,


पर जो जीते हैं किसी मकसद से,


वही कुछ खास हैं।।


Popular posts
नेशनल इंटीग्रेटेड मेडिकल एसोसिएशन मुरादनगर (नीमा )द्वारा जल्द ही कोरोनावायरस संक्रमण को रोकने , समाज एवं जनमानस को जागरूक करने के लिए
समस्त क्षेत्रवासियों को विजय शर्मा मानव अधिकार युवा संगठन की ओर से दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
जिला चेयरमैन दानिश सैफी व शहर चेयरमैन मोहम्मद गुड्डू के नेतृत्व में पूर्व मुख्यमंत्री बरकतुल्ला खान साहब की पुण्यतिथि मनायी
Image
मुरादनगर पुलिस ने चेकिंग के दौरान चोरी की वारदातों को अंजाम देने वाले शातिर गैंग के छह बदमाशो को किया गिरफ्तार
Image
आप सब को आकाश रावल की तरफ़ से दीपावली की ढेर सारी शुभकामनाएँ
Image