लड़की ने मां, भाई-बहन की हत्या करने का दबाव बनाए जाने पर की खुदकुशी

 


 


आगरा,  (वेबवार्ता)। उत्तर प्रदेश के आगरा में एक सनसनीखेज घटना सामने आई है, जहां एक 16 वर्षीय लड़की ने तब आत्महत्या कर ली जब उसके पिता और चाचा ने उसे देसी तमंचा देकर मां और दो भाई-बहन की हत्या करने के लिए कहा। खुदकुशी से पहले लड़की ने चार पेज का एक सुसाइड नोट लिखा। लड़की का शव 16 अप्रैल की रात को उस्रे कमरे में लटकता पाया गया। घटना शांति नगर की है। यह घटना तब प्रकाश में आई जब मौत से पहले लड़की द्वारा बनाया गया वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया।


 


वीडियो में लड़की को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि वह एक पुलिस अधिकारी बनना चाहती थी और अपनी मां और बड़े भाई और छोटी बहन कोन्याय दिलाना चाहती थी। वीडियो क्लिप में, कक्षा 10 की छात्रा, लड़की ने दावा किया की उसके चाचा ने उसे देसी तमंचा दिया और उसे उसकी 38वर्षीय मां और दो भाई-बहन को गोली मारने के लिए कहा, लेकिन इसके बजाय, उसने खुद की जान लेने का फैसला किया। उसने आरोप लगाया कि उसके पिता, दोनों चाचा और एक चचेरे भाई ने मारपीट की और उसकी मां, दोनों भाई-बहन और उसे मानसिक रूप से प्रताड़ित किया।


 


अपने सुसाइड नोट में लड़की ने लिखा, "मैं अपने आप को पुलसि अधिकारी बनता देखने और मां और भाई-बहन को न्याय दिलाने के लिए जीना चाहती थी, लेकिन मैं अपनी जिंदगी खत्म कर रही हूं, क्योंकि मैं अब थक चुकी हूं। हम चारों को संपत्ति को लेकर मेरे पिता, दो चाचा और चचेरे भाई द्वारा नियमित तौर पर मानसिक रूप से प्रताड़ित और परेशान किया जाता है।"


 


पुलिस ने उसके पिता को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है, जबकि बाकी आरोपी फरार चल रहे हैं। ऑटोप्सी रिपोर्ट में फांसी लगने से दम घुटने के कारण मौत होने की बात कही गई है। अपने सुसाइड नोट में लड़की ने यह भी कहा कि मेरी मां से शादी करने से पहले, मेरे पिता ने पहली पत्नी और उसके चार बच्चों की हत्या कर दी थी, जो गर्भवती थी। मेरे चाचा ने भी जेल की सजा काट ली है। उन्होंने मेरे साथ बदसलूकी की और गलत काम किया। मेरी मौत के बाद उन सभी को कड़ी सजा दीजानी चाहिए।


 


लड़की की मां द्वारा दर्ज कराई गई प्राथमिकी के अनुसार, 16 अप्रैल की सुबह परिवार के साथ चारों पुरुषों ने मारपीट की थी। बाद में, दोपहर में लड़की मृत पाई गई। मां ने आरोप लगाया, "चारों ने मेरी बेटी की तब हत्या कर दी, ब मैं काम करने बाहर गई थी।" सदर एसएचओ कमलेश कुमार सिंह ने कहा, "व परीक्षण के बाद आईपीसी की धारा 302 (हत्या) का मामला बदलकर 306 (आत्महत्या के लिए उकसाना ) कर दिया गया। हमने पिता को गिरफ्तार कर लिया है, लेकिन अन्य अभी भी फरार हैं।" उन्होंने कहा, "हम आत्महत्या से पहले लड़की द्वारा लगाए गए सभी आरोपों की जांच कर रहे हैं। मामला आगे बढ़ने के साथ हम और भी धाराएं जोड़ेंगे।"


 


 


Popular posts
UBHRCC की राष्ट्रीय कार्यकारिणी भंग.. जल्दी ही नयी कार्यकारिणी की घोषणा की जायेगी
Image
जिला चेयरमैन दानिश सैफी व शहर चेयरमैन मोहम्मद गुड्डू के नेतृत्व में पूर्व मुख्यमंत्री बरकतुल्ला खान साहब की पुण्यतिथि मनायी
Image
जिलाधिकारी सुहास एलवाई के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश सरकार के संचारी रोग नियंत्रण अभियान को जनपद में बहुत ही गंभीरता के साथ संचालित किया जा रहा है
Image
मुरादनगर पुलिस ने चेकिंग के दौरान चोरी की वारदातों को अंजाम देने वाले शातिर गैंग के छह बदमाशो को किया गिरफ्तार
Image
कोविड-19 के प्रोटोकॉल को लेकर जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग करें प्रभावी कार्रवाई नोडल अधिकारी की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट के सभागार में कोविड-19 को लेकर मीटिंग संपन्न
Image