कोरोना कोविड 19 महामारी में देशभर में लॉकडाउन का दौर खेल प्रशिक्षकों और अंपायरों के लिए भी अच्छा नहीं रहा

। उनकी जीवनचर्या खेल टूर्नामेंट पर ही निर्भर हुआ करती थी। जो कि ढाई महीनों से पूरी तरह बंद हैं। वहीं लॉकडाउन होते ही खेल निदेशालय द्वारा उन की सेवाओं को समाप्त कर दिया गया। जबकि शासन के आदेश थे कि न तो किसी की सेवायें समाप्त की जाएंगी,ढाई महीने से सभी खेल की गतिविधिया बंद है ऐसे में खेल प्रशिक्षक आर्थिक तंगी के दौर से गुजर रहे हैं। पिछले महीने खेल मंत्री किरेन रिजीजू जी ने लॉकडाउन 4.0 में सरकारी स्टेडियम खोलने के निर्देश दे दिए थे वही खेल जगत के प्रशिक्षक जो प्राइवेट अकादमी स्टेडियम के बाहर चला रहे है उनके लिए ये  कोरोना काल का समय बहुत ही दुखद है वो अपने परिवार की 2 वक्त की रोटी के लिए कर्ज लेकर खर्चा चला रहे है मेरा सरकार से यही निवेदन है कि जैसे सरकार ने  मॉल और धार्मिक स्थलों को अनुशासन के नियम पालन करते हुए खोलने की मंजूरी दी है वैसे ही सरकार खेल जगत को अनुशासन के साथ नियम पालन करते हुए मंजूरी दे खेल जगत के भीतर बच्चे व टीचर अनुशासन का कड़ाई से पालन करेंगे
आकाश रावल
जिला प्रभारी खेल प्रकोष्ट


Popular posts
मुरादनगर पुलिस ने गैंगस्टर एक्ट में वांछित अभियुक्त को किया गिरफ्तार वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक गाजियाबाद कलानिधि नैथानी के निर्देशानुसार गाजियाबाद पुलिस द्वारा चोर/लुटेरे/गैंगस्टर अपराधियों के विI
Image
अब घर बैठे होगा लेवल बीट !
Image
टीजेएपीएसकेबीएसके संगठन ने आर्थिक उत्थान के लिए लाक संस्कृति पर संगोष्ठी का आयोजन किया और किसानों को पहल करने के लिए प्रेरित किया
Image
नोडल अधिकारियों ने किया निम्स कोविड-19 अस्पताल का निरीक्षण
भारतीय किसान यूनियन (भानु) से प्रदेश सचिव (चौधरी शौकत अली चेची )किसानों की आर्थिक स्थिति पर तथा लगने वाले कानून उजागर कर मुख्य बिंदु
Image